कैसे मिलेगा पायस पुरस्कार?

PEAISदेश में अच्छा काम करने वाली पंचायतों को भारत सरकार द्वारा पुरस्कार दिये जाते हैं। पंचायतों को सशक्त बनाने के लिए पंचायती राज मंत्रालय की इस योजना का नाम है- पंचायत सशक्तिकरण एवं जवाबदेही प्रोत्साहन योजना। इसे संक्षेप में पायस ;च्म्।प्ैद्ध कहते हैं। इसमें पंचायत के तीनों स्तर पर उत्कृष्ट कार्य करने वाले निकायों को पुरस्कार दिया जाता है। पंचायती राज विभाग, भारत सरकार की यह महत्वपूर्ण योजना वर्ष 2005-06 में शुरू हुई थी। इसका वर्तमान वार्षिक बजट कुल दस करोड़ रुपये है।

ग्राम पंचायत, पंचायत समिति एवं जिला परिषद के कार्यों का मूल्यांकन एक प्रष्नावली फार्म के आधार पर किया जाता है। इसमें सामान्य सूचना, पंचायतों की कार्यप्रणाली, योजना एवं बजट प्राकलन, कार्य निष्पादन, जवाबदेही एवं पारदर्शिता संबंधी जानकारी देनी होती है।
राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस पर 24 अप्रैल 2013 को नयी दिल्ली में प्रधानमंत्री ने झारखंड की छह पंचायती राज संस्थाओं को 1.16 करोड़ का पुरस्कार दिया, जिसका विवरण इस प्रकार है-

पंचायती राज संस्था का नाम जिला प्राप्त पुरस्कार की राषि
बड़ा अंबोना पंचायत, निरसा प्रखंड धनबाद 12 लाख
पलारपुर पंचायत, निरसा प्रखंड धनबाद 12 लाख
गौनेया पंचायत देवघर 12 लाख
निरसा पंचायत समिति धनबाद 20 लाख
मधुपुर पंचायत समिति देवघर 20 लाख
जिला परिषद धनबाद 40 लाख
                                        कुल 1.16 करोड़

इस वर्ष झारखण्ड राज्य के लिए पुरस्कार की संख्या एवं राशि

  • एक जिला परिषद को 40 लाख
  • दो पंचायत समितियों को 20-20 लाख
  • तीन ग्राम पंचायतों को 12-12 लाख

पायस पुरस्कार हेतु चयन की प्रक्रिया

ग्राम पंचायत के लिए चयन प्रक्रिया

  • हर ग्राम पंचायत अपना फार्म भरकर प्रखंड पंचायत मूल्यांकन समिति (Block Panchayat Performance Assessment Committee)  के पास भेजगी।
  • प्रखंड पंचायत मूल्यांकन समिति को जितने फार्म मिलेंगे, उनमें से दो ग्राम पंचायत का चयन करके जिला पंचायत मूल्यांकन समिति के पास भेजा जायेगा।
  • जिला पंचायत मूल्यांकन समिति को जितने फार्म मिलेंगे, उनमें से दो ग्राम पंचायतों का चयन करके राज्य पंचायत मूल्यांकन समिति के पास भेजा जायेगा। इस तरह राज्य समिति को 24 जिलों से अधिकतम 48 फार्म मिल सकते हैं।
  • राज्य पंचायत मूल्यांकन समिति को जितने फार्म मिलेंगे, उनमें से कुल नौ ग्राम पंचायतों का प्रारंभिक चयन किया जायेगा।
  • इन पंचायतों की स्थल जांच करके नौ ग्राम पंचायतों के नाम की अनुषंसा भारत सरकार के पास भेजी जायेगी।
  • भारत सरकार द्वारा इन नौ पंचायतों की स्थल जांच के बाद पुरस्कार हेतु तीन ग्राम पंचायतों का चयन किया जायेगा।

पंचायत समिति के लिए चयन प्रक्रिया

  • हर पंचायत समिति अपना फार्म जिला पंचायत मूल्यांकन समिति के पास भेजेगी।
  • जिला पंचायत मूल्यांकन समिति को जितने फार्म मिलेंगे, उनमें से किसी एक पंचायत समिति का नाम राज्य पंचायत मूल्यांकन समिति के पास भेजा जायेगा। इस तरह राज्य समिति को 24 जिलों से अधिकतम 24 फार्म मिल सकते हैं।
  • राज्य पंचायत मूल्यांकन समिति को जितने फार्म मिलेंगे, उनमें से कुल छह पंचायत समितियों का प्रारंभिक चयन किया जायेगा।
  • इन पंचायत समितियों की स्थल जांच करके छह पंचायत समितियों के नाम की अनुषंसा भारत सरकार के पास भेजी जायेगी।
  • भारत सरकार द्वारा इन छह पंचायत समितियों की स्थल जांच के बाद पुरस्कार हेतु दो पंचायत समितियों का चयन किया जायेगा।

जिला परिषद के लिए चयन प्रक्रिया

  • हर जिला परिषद अपना फार्म भरकर राज्य पंचायत मूल्यांकन समिति को भेजेगी।
  • राज्य पंचायत मूल्यांकन समिति को जितने फार्म मिलेंगे, उनमें से कुल तीन जिला परिषदों का प्रारंभिक चयन किया जायेगा। इनकी स्थल जांच के बाद तीन जिला परिषदों के नाम की अनुषंसा भारत सरकार के पास भेजी जायेगी।
  • भारत सरकार द्वारा स्थल जांच के बाद पुरस्कार हेतु एक जिला परिषद का चयन किया जायेगा।

योजना की विशेष जानकारी के लिए बीडीओ या डीपीआरओ से सम्पर्क किया जा सकता है। पंचायती राज विभाग का Website www.jharkhand.gov.in  भी देखा जा सकता है। झारखंड पंचायत महिला रिसोर्स सेंटर की वेबसाइट www.jharkhand-panchayat.org पर भी इसकी जानकारी मिल सकती है। फार्म लेने के लिए ई-मेल jpwrc4@gmail.com पर आग्रह भेज सकते हैं।

झारखंड में पायस योजना संबंधी कार्य की अंतिम तिथि

ग्राम पंचायत स्तर पर
ग्राम पंचायत द्वारा प्रष्नावली भरकर प्रखंड पंचायत मूल्यांकन समिति के पास जमा करना।

25-09-13

पंचायत समिति स्तर पर
1 प्रखंड प्ंाचायत मूल्यांकन समिति का गठन करना ।

05-09-13

2 पायस पर प्रखण्ड स्तरीय एक दिवसीय कार्यशाला।

14-09-13

3 पंचायत समिति की प्रष्नावली भरकर जिला पंचायत मूल्यांकन समिति के पास भेजना

20-09-13

4 ग्राम पंचायत से प्राप्त फार्म में दो ग्राम पंचायत का चयन कर जिला समिति को भेजना

30-09-13

जिला परिषद स्तर पर
1 पायस पर जिला स्तरीय एक दिवसीय कार्यशाला।

10-09-13

2 जिला परिषद की प्रष्नावली भरकर राज्यस्तरीय मूल्यांकन समिति के पास भेजना

01-10-13

3 हर जिले से दो ग्राम पंचायत तथा एक पंचायत समिति का चयन कर राज्य समिति के पास भेजना

01-10-13

राज्य स्तर पर कार्य
1 जिला स्तरीय अधिकारियों का राज्य स्तरीय प्रषिक्षण एवं दिषा-निर्देष, प्रष्नावली एवं अन्य प्रपत्र उपलब्ध करवाना।

31-08-13

2 क्षेत्रीय निरीक्षण दलों का गठन कर प्रषिक्षित किया जाना।

20-11-13

3 नौ ग्राम पंचायतों, छह पंचायत समितियों, तीन जिला परिषदों का प्रारंभिक चयन करना।

30-11-13

4 निरीक्षण दलों द्वारा भ्रमण कर फार्म की सूचनाओं का सत्यापन करना।

14-12-13

5 निरीक्षण रिपोर्ट के आधार पर राज्य स्तर पर अंतिम रुप से चयन करना।

20-12-13

6 भारत सरकार को अनुमोदित सूची भेजना

31-12-13

संलग्न
1. ग्राम का पायस फार्म
2. पंचायत समिति एवं जिला परिषद का पायस फार्म