पंचायत में बीएनवी की भूमिका पर सेमिनार

BNV-progरांची, 06 अगस्त: झारखंड पंचायत महिला रिसोर्स सेंटर ने आज होटल अशोका में पंचायती राज में भारत निर्माण सेवकों की भूमिका पर सेमिनार का आयोजन किया। इसमें डॉ नुपुर तिवारी ने विशिष्ट वक्ता के बतौर हिस्सा लिया। सेमिनार में राज्य के अतिरिक्त मुख्य सचिव सुधीर प्रसाद तथा रामकृष्ण मिशन के सचिव स्वामी शशांकानंद भी शामिल हुए। कार्यक्रम का संचालन झारखंड पंचायत महिला रिसोर्स सेंटर के राज्य समन्वयक डॉ विष्णु राजगढि़या ने किया। सेमिनार के सत्र निदेशक सुबीर कुमार दास ने कार्यक्रम के औचित्य पर प्रकाश डाला।

प्रारंभ में सर्ड के उपनिदेशक महादेव धान ने प्रतिनिधियों का स्वागत किया। यूनिसेफ के प्रोग्राम आफिसर कुमार प्रेमचंद ने झारखंड में पंचायती राज के माध्यम से विकास की संभावनाओं पर प्रकाश डाला। अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री सुधीर प्रसाद ने पेयजल एवं स्वच्छता विभाग द्वारा पंचायतों को सौंपे गये अधिकारों की जानकारी दी। उन्होंने भारत निर्माण सेवकों को पेयजल एवं स्वच्छता विभाग संबंधी योजनाओं के क्रियान्वयन में अग्रणी भूमिका निभाने का सुझाव दिया। सर्ड के निदेशक आरपी सिंह ने राज्य में भारत निर्माण सेवक योजना के क्रियान्वयन की जानकारी दी।

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ पब्लिक एडमिनिस्टे्रशन, नई दिल्ली की सहायक प्राध्यापक डॉ नुपुर तिवारी ने विकेंद्रित योजना के महत्व पर प्रकाश डालते हुए देश में पंचायती राज के विभिन्न आयामों पर चर्चा की। उन्होंने झारखंड में पंचायती राज व्यवस्था को मजबूत करने संबंधी सुझाव भी दिये। रामकृष्ण मिशन के सचिव स्वामी शशांकानंद ने सामाजिक कार्यकर्ताओं को निस्वार्थ भाव से समाज की सेवा में जुटने का आह्वान किया।

डॉ एम. पी. सिंह ने भारत निर्माण सेवक बनाने की प्रक्रिया पर प्रकाश डाला। पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के प्रोग्राम मैनेजमेंट यूनिट के राज्य समन्वयक डॉ रवींद्र वोहरा ने निर्मल भारत अभियान के तहत पंचायतों में स्वच्छता संबंधी कार्य को बेहतर बनाने संबंधी सुझाव दिये। सेमिनार में सामाजिक कार्यकर्ता बलराम, झारखंड राज्य महिला समाख्या की डा. स्मिता गुप्ता, श्री रामकृष्ण मिशन की डॉ अंजली चंद्रा, सर्ड के व्याख्याता अशोक साह एवं राजीव रंजन के अलावा राज्य भर से आये पंचायत प्रतिनिधि एवं पंचायत पदाधिकारी शामिल हुए।