हरिणा में हुई पोषण पर पहली विषेष ग्राम सभा

Special-Gram-Sabha-1 धनबाद जिले के बाघमारा प्रखंड की हरिणा पंचायत में 14 अगस्त 2013 को पोषण पर विषेष ग्राम सभा का आयोजन हुआ। झारखंड में यह ऐसी पहली विषेष ग्राम सभा आयोजित की गयी। भारत सरकार के पंचायती राज मंत्रालय ने देष भर में ऐसी विषेष ग्राम सभा करने का आग्रह किया है। हरिणा पंचायत को झारखंड की पहली ऐसी विषेष ग्राम सभा करने का श्रेय मिला है। हालांकि देष के किसी भी अन्य राज्य में भी अब तक पोषण पर ऐसी विषेष ग्राम सभा होने की कोई सूचना नहीं मिली है। इसलिए संभव है कि यह देष की ऐसी पहल विषेष ग्राम सभा हो।

हरिणा पंचायत भवन में आज विषेष ग्राम सभा में यूनिसेफ के राज्य प्रमुख जॉब जकारिया, कुमार प्रेमचंद एवं डॉ विष्णु राजगढि़या भी शामिल हुए। बाघमारा के प्रखंड विकास पदाधिकारी संतोष गर्ग, अंचलाधिकारी राजेंद्र प्रसाद सिंह, हरिणा की मुखिया रिंकू देवी की उपस्थिति में ग्राम सभा ने हरिणा पंचायत को कुपोषण मुक्त करने का प्रस्ताव लिया। इस दौरान उन्होंने नारे लगाये- कुपोषण हरिणा छोड़ो। श्री जकारिया ने कुपोषण के दुष्प्रभावों एवं कारणों की चर्चा करते हुए इसे रोकने संबंधी जानकारी दी। श्री कुमार प्रेमचंद ने समूह चर्चा के माध्यम से पोषण संबंधी प्रवृतियों एवं समस्याओं पर चर्चा की।

विषेष ग्राम सभा के दौरान सीडीपीओ, सहिया, आंगनबाड़ी सेविकाओं तथा निर्मल भारत अभियान से जुड़े कर्मियों ने विभिन्न योजनाओं पर चल रहे काम की जानकारी दी। मनरेगा Special-Gramsabha-2लोकपाल गुरजीत सिंह ने भी आंगनबाड़ी सेवाओं को बेहतर बनाने संबंधी सुझाव दिये। ग्राम सभा में बड़ी संख्या में उपस्थित स्थानीय लोगों ने पोषण संबंधी आदतों एवं समस्याओं पर खुलकर चर्चा की और सरकारी योजनाओं का लाभ लेने तथा अपने व्यवहार में सुधार लाने का संकल्प लिया।

इस विषेष ग्राम सभा से पहले यूनिसेफ टीम ने धनबाद उपायुक्त श्री प्रषंात कुमार से मिलकर जिले में पोषण एवं जन्म मृत्यु संबंधी मामलों पर कार्यों की जानकारी ली।